DPRO पर महिला ने लगाए गंभीर आरोप

 मृतक आश्रित की नौकरी नहीं मिली तो सफाई कर्मी की बीबी ने डीपीआरओ पर ही लगाया चरित्र हीनता का कलंक।कैंसर से जान गंवा चुके सफाई कर्मचारी की बीवी ने मृतक आश्रित की नौकरी नहीं मिलने पर जिला पंचायत राज अधिकारी पर  दुष्चरित्रता का कलंक मढ़ा है।वही एससी एसटी आयोग के निर्देश पर डीएम ने जांच के आदेश दिए हैं। और मजिस्ट्रेट के समक्ष ही कलम बंद बयान भी दर्ज किया गया है।

पूरा मामला सुल्तानपुर जिले में तैनात जिला पंचायत राज अधिकारी आरके भारती से जुड़ा हुआ है। डीपीआरओ कार्यालय में सफाई कर्मचारी के पद पर तैनात अमृतलाल की कैंसर के चलते मौत हो गई थी । मौत के बाद अमृत लाल के दो सगे भाइयों ने डीपीआरओ को एफिडेविट देकर उसकी पत्नी आशा कुमारी पर लापरवाह और पतिव्रत धर्म से इतर कार्य करने का आरोप लगाया है। भाइयों का कहना है कि मृतक अमृतलाल के कैंसर होने के बाद उसकी पत्नी आशा घर छोड़ कर चली गई थी। मृत्यु के उपरांत वह अपने पति के अंतिम संस्कार के कार्यक्रम में भी  शामिल नहीं हुई थी। हाई कोर्ट से आए डायरेक्शन और परिवार के एफिडेविट को संज्ञान में लेते हुए जिला पंचायत राज अधिकारी आरके भारती ने मृतक आश्रित पद पर आशा कुमारी के आवेदन को खारिज कर दिया। इसी दौरान मृतक सफाई कर्मचारी की पत्नी ने आवास पर बुलाकर जबरन कमरे में खींचने और अभद्र व्यवहार करने का आरोप मढ़ा है।


मृतक अमृत लाल की पत्नी आशा कुमारी  का कहना है कि मृतक आश्रित की नौकरी के आवेदन के दौरान पंचायत राज विभाग कार्यालय से उसको बताया गया कि डीपीआरओ ऑफिस में सुनवाई नहीं करते हैं । जिस पर मैं उनके घर गई थी। उन्होंने मुझसे बेडरूम में चलने के लिए कहा। समर्थन नहीं करने पर वह मेरा हाथ पकड़कर खींचने लगे और बोले मैं जो चाहूंगा वह तुम्हें करना होगा। मैंने हाथ छुड़ाकर किसी तरह भागकर अपनी आबरू बचाई।

  


वही इस बाबत डीपीआरओ आरके भारती ने कहा कि मुझ पर लगाए गए आरोप निराधार हैं। 2012 में इनके पति की मौत हो चुकी है। साजिशन मुझ पर यह षड्यंत्र रचा जा रहा है। हाईकोर्ट के निर्देश पर जब जांच कराई गई तो परिवार की तरफ से एफिडेविट दिया गया। जिसमें कहा गया कि भाई के कैंसर पीड़ित होने और मौत होने के बाद कार्यक्रमों में यह शामिल नहीं हुई। नौकरी हथियाने के लिए यह सब कुचक्र रचा जा रहा है। मृत्यु और आवेदन में लंबे अंतराल के चलते इस मृतक आश्रित आवेदन को निरस्त कर दिया गया। जिसकी नाराजगी स्वरूप मुझ पर यह आरोप लगाए जा रहे हैं।

आखिर मृतक की पत्नी के आरोपों में कितनी सच्चाई है यह तो जांच के बाद ही स्पष्ट हो पाएगा लेकिन डीपीआरओ पर इस तरह का आरोप लगने से पूरे विकास विभाग में हड़कंप मचा हुआ है।



विज्ञापन

विज्ञापन के लिए 📞7007461767 पर संपर्क करें।Ads