सुल्तानपुर पहुंचे केंद्रीय मंत्री कौशल किशोर, नशा मुक्त अभियान कार्यक्रम में हुए शामिल



Headline : शराब पर प्रतिबंध लगाने और दुकानें बंद कराने से नहीं खत्म होगा नशा कारोबार : केंद्रीय मंत्री कौशल किशोर



Anchor : केंद्रीय शहरी आवास एवं विकास मंत्री कौशल किशोर ने सुल्तानपुर आगमन के दौरान कहा कि नशे से बचना है तो हमें पहले दिन के ऑफर को रिजेक्ट करना होगा। पंजाब हरियाणा समेत अन्य राज्यों में हम विशेष अभियान चलाकर 10,000 से अधिक युवा को नशे से मुक्ति लेने का संकल्प दिलाने जा रहे हैं। शराब पर प्रतिबंध लगाने और दुकानें बंद कराने से नशे का कारोबार बंद नहीं होगा।



Vo : लंभुआ तहसील मुख्यालय पर सर्वोदय इंटर कालेज ग्राउंड में शनिवार को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई की जयंती के पूर्व दिवस पर नशा मुक्ति  संकल्प समारोह  कार्यक्रम आयोजित हुआ। केंद्रीय शहरी आवास एवं विकास मंत्री कौशल किशोर ने पूर्व पीएम की प्रतिमा पर दीप प्रज्वलन किया। 

आयोजक एवं ब्लाक प्रमुख कुंवर बहादुर सिंह ने विधायक सीताराम वर्मा, बीजेपी जिला अध्यक्ष आरए वर्मा, बल्दीराय ब्लाक प्रमुख शिव कुमार सिंह समेत सभी अतिथियों का आभार प्रकट किया। बच्चों ने हाथ उठाकर सुल्तानपुर जिले को नशा मुक्त किए जाने का संकल्प लिया। 


इस दौरान केंद्रीय मंत्री ने छात्राओं से वादा लिया कि वह ऐसे युवाओं से विवाह करेंगे जो नशा से काफी दूर होंगे। विद्यालय प्रबंधन से संकल्प लिया गया कि कॉलेज परिसर में गुटखा सिगरेट और अन्य नशा करने वाले छात्रों को विद्यालय से बाहर का रास्ता दिखाने का कार्य किया जाए। इस दौरान 26 दिसंबर को बाल दिवस मनाने का आवाहन केंद्रीय मंत्री कौशल किशोर ने आए सभी सम्मानित नागरिकों से किया।



जहरीली शराब पीने से तमाम लोगों की मौत होती चली आ रही है। पिछले 1 वर्ष में 10,000 से अधिक लोग आत्महत्या कर चुके हैं। कहीं कच्ची शराब बनाएंगे, कहीं जहरीली शराब बनाएंगे, यूरिया डालकर शराब बनाएंगे। शराब के एवज में जो कुछ मिलता है , नशा लेने वाले उसे पी जाते हैं। 

शराब पर प्रतिबंध लगाने और दुकानों को बंद करने से नशे का कारोबार बंद नहीं होगा। ड्रग्स, स्मैक, चरस हीरोइन समेत अन्य नसों की कोई दुकान नहीं है है। बावजूद लोग इसकी चपेट में आ रहे हैं। पहली बार नशा या तो दोस्त कराते हैं या मुफ्त में मिलता है। हमारा प्रयास है कि नशे की तरफ युवा पीढ़ी को जाने से रोकना है। ‌‌

 31 दिसंबर को बड़े पैमाने पर सेलिब्रेशन नशे से होता है।  तमाम युवा और युवतियां नशे की ओर प्रवृत्त होते हैं। हमारा बेटा जो नशे के चलते अपनी जान गंवा बैठा है । पहले ऑफर को मना कर देता तो आज यह दिन नहीं आता। हमें पहले दिन के ऑफर को मना करना है। नशे की दुकानें अपने आप बंद हो जाएंगे यदि नशा लेने वाले लोग इससे दूर हो जाएंगे। 

अभी दिल्ली में पान विक्रेता ने अपनी दुकान जला दी। यह समझ कर कि इससे लोगों की जान जा रही है। ‌ सत्र 2023 को नशा मुक्त बनाने के लिए 10,000 से अधिक लोग नशा नहीं लेने का संकल्प लेंगे। इसी अभियान में हम लगे हुए हैं। देश की आजादी के लिए हमें 90 साल लड़े। लड़ने के लिए लेकिन नशे से लड़ने के लिए हमें अगले 9 साल नहीं लगेंगे। 

पंजाब हरियाणा जैसे राज्यों को नशा मुक्त करने के लिए विश्वविद्यालय वार जागरूकता अभियान चलाया जाने का कार्यक्रम तय हुआ है। 
   

विज्ञापन

विज्ञापन के लिए 📞7007461767 पर संपर्क करें।Ads