सुल्तानपुर ओपीडी में 3 मौत पर सपा विधायक ने स्वास्थ्य मंत्री बृजेश पाठक को घेरा।।


Headline : सुल्तानपुर ओपीडी में 3 मौत पर सपा विधायक ने स्वास्थ्य मंत्री बृजेश पाठक को घेरा, 

डिप्टी सीएम ने सदन में किया था दावा, 

विधायक ने चिकित्सा महाविद्यालय में डॉक्टरों की नियुक्ति पर उठाए सवाल।


सुल्तानपुर चिकित्सा महाविद्यालय की ओपीडी में ताबड़तोड़ हुई थी मौत पर सपा विधायक मोहम्मद ताहिर ने स्वास्थ्य मंत्री का घेराव किया है। उन्होंने कहा कि सदन में आकर डिप्टी सीएम ने बेहतर स्वास्थ्य सेवा का दावा किया था । चिकित्सा महाविद्यालय मैं बिना पैनल के जूनियर और सीनियर चिकित्सकों की नियुक्ति पर भी उन्होंने गंभीर आरोप लगाए हैं। विधायक के आरोप से स्वास्थ्य महकमे में खलबली मच गई है।



टीवी पेशेंट समेत गंभीर बीमारी का इलाज कराने ओपीडी में आए तीन लोगों की सुल्तानपुर में अब तक मौत हो चुकी है। स्ववित्तपोषित चिकित्सा महाविद्यालय की ओपीडी में मौत के प्रकरण को समाजवादी पार्टी के विधायक एवं पूर्व सांसद ताहिर खान ने गंभीरता से प्रकरण उठाया है। विधायक ने कहा कि जूनियर और सीनियर चिकित्सकों की भर्ती केवल प्राचार्य की तरफ से किया जाना आश्चर्यजनक है। उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों की गैरमौजूदगी और चिकित्सकों के पैनल नहीं होने पर हैरत जताई है। विधायक के इस दावे से स्वास्थ्य महकमे में खलबली मच गई है। वहीं सत्तापक्ष के विधायक भी मामले को लेकर मंथन में जुट गए हैं। विधायक ने पूरे मामले में डिप्टी सीएम बृजेश पाठक और स्वास्थ्य विभाग के अफसरों से जवाब मांगा है।

सरकार की मंशा है कि गरीब नागरिकों के साथ अन्याय हो। अभी तक सुल्तानपुर जिला अस्पताल की ओपीडी में 3 मौत हो चुकी है। ऐसे में सामान्य नागरिकों को स्वास्थ्य सुविधा की व्यवस्था पर सवाल उठना लाजमी है। प्रकरण में दोषी के खिलाफ ठोस कार्रवाई होनी चाहिए। ओपीडी में यदि कोई मरीज गंभीर है तो उसे तत्काल भर्ती कर उसका समुचित इलाज किया जाना चाहिए। स्वदेशी चिकित्सा महाविद्यालय के प्राचार्य अपने स्तर पर ही नियुक्ति कर रहे हैं जबकि चिकित्सकों का पैनल और प्रशासनिक अधिकारी पैनल में होने चाहिए । मैं जिलाधिकारी सुल्तानपुर और स्वास्थ्य मंत्री से मांग करता हूं कि  सुल्तानपुर की जनता के साथ अन्याय हो। क्योंकि सरकार की स्वास्थ्य सेवा प्राथमिकता में शामिल है।

ताहिर खां, सपा विधायक एवं पूर्व सांसद सुल्तानपुर




सदन में स्वास्थ्य मंत्री ने यह वादा किया था कि गंभीर स्थिति में ही मरीजों को जिला अस्पताल से रेफर करने की व्यवस्था होगी। लेकिन यहां के चिकित्सक अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ते हुए रेफर करने की परंपरा बनाए हुए हैं। ओपीडी में मौत होना बहुत ही गंभीर मामला है। स्वयं चलकर आए थे डिप्टी सीएम बृजेश पाठक जी और उन्होंने बेहतर स्वास्थ्य सुविधा का दावा किया था सदन में। मैं इस बारे में जिलाधिकारी से भी वार्ता करूंगा ओपीडी में मौत का पैटर्न कल शाम को मेरे संज्ञान में आया है। जूनियर डॉक्टर और सीनियर डॉक्टर की जो भर्ती की जा रही है वह पैनल बनाकर की जाए।

ताहिर खां, सपा विधायक एवं पूर्व सांसद सुल्तानपुर




विज्ञापन

विज्ञापन के लिए 📞7007461767 पर संपर्क करें।Ads