शबे बारात रहमत और खुशी की रात: अकील अहमद कादरी।।

शबे बारात रहमत और खुशी की रात: अकील अहमद कादरी।।



अल्लाह सर्वशक्तिमान हर चीज़ का निर्माता है, पृथ्वी और आकाश, चाँद और सूरज, समुद्र, शुष्क मौसम, रात और दिन सभी उसकी पूर्ण शक्ति की गवाही देते हैं। अल्लाह के यहॉ महीनों की संख्या बारह है। शाबान का महीना उनमें से एक है। इस महीने की फजीलत और बरकतें बेशुमार हैं। खासकर इस महीने की पंद्रहवीं तारीख का बहुत महत्व है क्योंकि इसकी रात मगफिरत और निजात की रात है। यह रात है खुशी की दोज़ख से मुक्ति की रात है।इस रात के कई नाम किताब और सुन्नत से साबित हुए हैं, इसे लैलातुल-मुबारका, लैलातुल-सिक़, लैलातुन-नजात, लैलातुल-बारात कहा जाता है।इस रात में जागने वालों को बड़ी फजीलत मिलती है, जो इस रात में इबादत में लगा रहता है, वह मगफिरत को पा लेता है।इसकी महत्ता के लिए हम मुसलमानों के लिए इतना ही काफी है कि पैगम्बर (सल्ल.) का यह गौरवशाली कथन है कि शाबान मेरा महीना है।हम उनके वह है तेरे तो हुए हम तेरे।जब ये महीना मेरे मुस्तफ़ा का है तो इसकी अहमियत मेरे लिए क्या होगी, कोई आशिक या गुलाम से छुपा नहीं।



मुसलमानों को माफ़ी का संदेश:

यह हदीस में कहते हैं: "शाबान की पंद्रहवीं रात को, अल्लाह,अासमाने दुनया पर तजल्ली फरमाता है और रिशतो को तोड़ने वालो को छोड़कर सभी को माफ कर देता है
 हदीस में है कि पैगंबर (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने कहा: जिब्राइल मेरे पास आया और कहा: यह शाबान की पंद्रहवीं रात है। रब इस रात बनी क्लब की बकरियों के बाल के बराबर लोगों को जहन्नम से निजात देता है , लेकिन वह अविश्वासियों और शत्रुता करने वालों और संबंधों को तोड़ने वालों और कपड़े लटकाने वालों और अपने माता-पिता की नाफरमानी करने वालों और शराब पीने वालों को नहीं माफ करता है। हम पापियों ,गुनहगारों के लिए यह दिन और रात कितनी आनंददायक है, इसका वर्णन नहीं किया जा सकता कि रहमते इलाही स्वयं अपने बन्दो को आवाज दे रही है, सच्चे स्वर्ग का सच्चा मालिक खुद नेदा दे, शॉन रहीमी रहम बरसाने को तैयार हैं।वाह, क्या खुशी की रात है, क्या आनंद की रात है, अवज्ञाकारियों, पापियों, दुःखियारों, खुश होओ कि आज वह रात है कि जो लोग अपने पापों पर शर्मिंदा हैं, जो अपने कार्यों पर पश्चाताप करते हैं उन्हें इनाम दिया जा रहा है स्वर्गका। क्षमा की ख़बर, मोक्ष की ख़बर,दी जा रही है। फिर इमाम हादी, इमाम अहमद रज़ा ने पुकारा।

मुज़दा बाद ऐ आसियो जाते खुदा ग़फ्फार है।।।
तहनियत ऐ मुजरिमों शाफेअ शहे अबरार है।।।



हालाँकि, हदीसों से यह साबित होता है कि कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो इस रात इस अज़ीम नेमत से वंचित रह जाते हैं, उनमें शराबी, रिश्ते तोड़ने वाले, अपने माता-पिता की अवज्ञा करने वाले आदि शामिल हैं। उस रात उनकी दुआ कबूल नहीं होगी.मेरे प्यारे भाइयों, हमें अपनी कमियों और गलतफहमियों पर गौर करना चाहिए, और इस रात के आने से पहले, हमें अपने सभी पापों, विशेषकर उन पापों से सच्चा पश्चाताप करना चाहिए, ताकि हम उन नेक लोगों के बीच खड़े हों जिन पर दया की वर्षा होती है।

इस रात ओवेस क़रनी को याद करने के कारण:

इस रात को मुसलमान अपने घरों को रोशन करते हैं और हलवे पर फातिहा चढ़ाकर अपने मरहूमों को खिराजे अकीदत(श्रद्धांजलि) देते हैं और विशेष रूप से हज़रत अवैस क़रनी को याद करते हैं। पैगम्बरे अमन व राहत ने कहा कि करन के ओवैस की दुआ से मेरी कई उम्मत माफ कर दी जाएंगी, ऐ उमर, अगर तुम उनसे मिलो तो माफ़ी के लिए दुआ करो।

जरूरी तम्बीह: इस रात को बाइक पर घूमकर न बताएं।।

अपने मरहूमो की कब्र पर जाकर फातिहा पढ़ें और उनके नाम पर इसाले सवाब करें।
 सजदा या कब्रों की तवाफ (परिक्रमा) हराम (वर्जित )है।अपने गुनाहों से सच्चे दिल से तौबा करें ताकि दुआ कबूल हो जाए।आतिशबाजी नाजाइज़ (वर्जित )है, इस रात इस वर्जित कार्य में लगकर अपना भाग्य बर्बाद न करें।जितना संभव हो गरीबों और जरूरतमंदों और दोस्तों को दावत दें।
कुरान का अच्छी तरह से तिलावत करें और क़ज़ा नमाज़ अदा करने की प्रतिबद्धता बनाएं और जानबूझकर नमाज़ छोड़ने से पश्चाताप करें और फिर ऐसा न करने का अहद करें।मुसलमानों और मस्जिदों और मदरसों के जीवन, संपत्ति और सम्मान की सुरक्षा के लिए दुआ करें।एकता से रहने का मन बनाओ। समय बहुत नाजुक है। समय की नाजुकता को पहचानने का प्रयास करो।
खुदा हम सभी को समझ प्रदान करें और हमें सत्य पर दृढ़ रखें। आमीन।

अक़ील अहमद क़ादरी मिसबाही//
जामिया इसलामिया रौनाही की वॉल से.. 

विज्ञापन

विज्ञापन के लिए 📞7007461767 पर संपर्क करें।Ads