सपा प्रत्याशी को लेकर अपने ही निर्णय से औंधे मुंह गिरी सपा।

सपा प्रत्याशी को लेकर अपने ही निर्णय से औंधे मुंह गिरी सपा। 

पूर्व प्रत्याशी भीम निषाद की CM से हुई मुलाकात, योगी के फेसबुक हैंडल से शेयर हुई फोटो। 

सुल्तानपुर में अपने एक निर्णय से समाजवादी पार्टी खुद औंधे मुंह गिर पड़ी है। यहां पूर्व में सपा से घोषित उम्मीदवार भीम निषाद की एक फोटो सीएम योगी आदित्यनाथ के फेसबुक पेज पर अपडेट की गई है। जिसमें वे अंबेडकर नगर से भाजपा उम्मीदवार रितेश पाण्डेय के साथ सीएम से भेंट करने पहुंचे हैं। 

भीम निषाद बोले योगी से हमारे पुराने संबंध।


हालांकि इस मामले में जब भीम निषाद से फोन पर बात की गई तो उन्होंने बताया योगी से हमारे पुराने संबंध हैं। उन्होंने ये भी कहा है कि फोटो पुरानी है। 


आपको बताते चलें कि आदर्श आचार संहिता लागू होने के ठीक तीसरे दिन अखिलेश यादव ने 16 मार्च को भीम निषाद को सुल्तानपुर से प्रत्याशी घोषित किया था। लेकिन उनके यहां पहुंचते ही लोकसभा प्रभारी व पूर्व विधायक अरुण वर्मा, जिलाध्यक्ष रघुवीर यादव, पूर्व विधायक संतोष पाण्डेय, पूर्व विधायक भगेलू राम आदि ने उनका विरोध शुरू कर दिया। केवल इसौली विधायक ताहिर खान उन्हें क्षेत्र में लेकर निकलते रहे। 28 मार्च को उन्होंने केंद्रीय कार्यालय का उदघाटन किया तो उनके विरोधियों की पूरी टोली लखनऊ में अखिलेश यादव के पास कदम ताल करने लगी। भीम की तलबी हुई तो ताहिर व महामंत्री उन्हें लेकर पेश हुए। सभी विरोधियों से गिले शिकवे दूर कराकर भीम को यहां भेजा गया। 

14 अप्रैल को कटा था भीम निषाद का टिकट 

लेकिन लौटने के बाद अधूरे मन से सब उन्हें समर्थन देते दिखे। ऐसे में पर्यवेक्षक भेजे गए लेकिन हल नहीं लिखा। अंत में आप सांसद संजय सिंह 12 अप्रैल को लखनऊ में अखिलेश से मिले उनकी रिपोर्ट पर दो दिन बाद 14 अप्रैल की शाम भीम का टिकट काटकर गोरखपुर के पूर्व मंत्री व पूर्व विधायक राम भुआल को टिकट दे दिया गया। ये बात भीम व इसौली विधायक आदि को अखर गई। इन सबने टिकट को प्रतिष्ठा से जोड़ लिया। कई दिनों तक राम भुआल का अलग अलग स्थानों पर विरोध कराया गया। बाकायदा नारेबाजी हुई लेकिन जब नेतृत्व पर इसका असर नहीं पड़ा तो भीम निषाद अंबेडकर नगर के भाजपा कंडीडेट रितेश पाण्डेय के साथ योगी से मिले। 

बसपा भाजपा को दे रही सीधे फाइट।।



हालांकि भेंट की फोटो सामने आने के बाद भीम ने कहा फोटो पुराना है। हम आज लखनऊ गए ही नहीं। हां वे ये अवश्य बोले हमारे योगी के पुराने संबंध हैं। हम सपा में थे हैं और मरते दम तक रहेंगे। वही सीनियर पत्रकार एसए रिजवी ने कहा कि जिले में करीब दो लाख के आसपास निषाद वोटर हैं। इनमें से भीम के अलग होने से दस प्रतिशत निषाद वोटर ही छटकने के आसार हैं। उन्होंने ये भी कहा है कि मौजूदा समय में सपा मुख्य मुकाबले से बाहर है। बसपा भाजपा को सीधे फाइट दे रही है।

रिपोर्ट/सरफराज अहमद

विज्ञापन

विज्ञापन के लिए 📞7007461767 पर संपर्क करें।Ads